info.success4ever@gmail.com
Download App

Registration (Signup)

Please Fill The Form

If you do not have any Sponsor ID, you can join with the Admin ID by clicking on the Proceed button.
यदि आपके पास कोई Sponsor ID नहीं है, तो आप Proceed बटन पर क्लिक करके एडमिन आईडी से जुड़ सकते हैं।



Recommended for you

सोशल मीडिया : फेक न्‍यूज और वीडियो की ऐसे करें पड़ताल ...

फेक न्‍यूज और वीडियो की ऐसे करें पड़ताल

स्मार्टफोन, इंटरनेट और सोशल मीडिया के जरिये इन दिनों देश भर में फेक न्यूज के चलन ने तेजी से जोर पकड़ा है। थोड़ी सी सजगता से आप भी इसे आसानी से पहचान सकते हैं। यह दुनिया का एक स्मार्ट दौर है जहां सबकुछ स्मार्ट होते जा रहे हैं। विरोधाभास यह है कि इस स्मार्ट युग में जहां हमने अपना दिमाग इस्तेमाल करने का काम भी इलेक्ट्रॉनिक यंत्रों को सौंप दिया है, उसी स्मार्ट समय में हम सबसे ज्यादा ‘फेक न्यूज’ का शिकार हो रहे हैं। 

ऑक्सफोर्ड डिक्शनरी ने ‘पोस्ट ट्रूथ’ शब्द को वर्ष 2016 का ‘वर्ड ऑफ द ईयर’ घोषित किया था। उपरोक्त शब्द को एक विशेषण के तौर पर परिभाषित किया गया है, जहां निजी मान्यताओं और भावनाओं के बजाय जनमत निर्माण में निष्पक्ष तथ्यों को कम महत्व दिया जाता है। यहीं से शुरू हळ्आ फेक न्यूज का सिलसिला। लैंडलाइन फोन के युग में एक बार पूरा देश गणोश जी को दूध पिलाने निकल पड़ा था, पर पिछले एक दशक में हुई सूचना क्रांति ने अफवाहों को तस्वीरों और वीडियो के माध्यम से ऐसी गति दे दी है, जिसकी कल्पना मुश्किल है। सोशल मीडिया के तेज प्रसार और इसके आर्थिक पक्ष ने झूठ को तथ्य बना कर परोसने की कला को नए स्तर पर पहुंचाया है और इस असत्य ज्ञान के स्नोत के रूप में फेसबुक और व्हॉट्सएप नए ज्ञान के केंद्र के रूप में उभरे हैं।

देश के लिए विकराल होती समस्‍या है फेक न्‍यूज 

देश इन दिनों फेक न्यूज की विकराल समस्या का सामना कर रहा है। भारत जैसे देश में जहां लोग प्राप्त सूचना का आकलन अर्जित ज्ञान की बजाय जन श्रुतियों, मान्यताओं और परंपराओं के आधार पर करते हैं, वहां भूतों से मुलाकात पर बना कोई भी यूट्यूब चैनल रातों-रात हजारों सब्सक्राईबर जुटा लेता है। वीडियो भले झूठे हों पर उसे हिट्स मिलेंगे तो उसे बनाने वाले को आर्थिक रूप से फायदा भी मिलेगा। किसी विकसित देश के मुकाबले भारत में झूठ का कारोबार तेजी से गति भी पकड़ेगा और आर्थिक फायदा भी पहुंचाएगा। फेक न्यूज के चक्र को समझने से पहले मिसइंफोर्मेशन और डिसइंफोर्मेशन में अंतर समझना जरूरी है। मिसइंफोर्मेशन का मतलब ऐसी सूचना जो असत्य है, पर जो इसे फैला रहा है वह यह मानता है कि यह सूचना सही है। वहीं डिसइंफोर्मेशन का मतलब ऐसी सूचना से है जो असत्य है और इसे फैलाने वाला भी यह जानता है कि अमुक सूचना गलत है फिर भी वह फैला रहा है।
Read More